Breaking News
Home / मनोरंजन / सबसे कम उम्र में शरीर दान करने वाली 20 माह की धनिष्ठा, यूं बचाई 5 जिंदगियां

सबसे कम उम्र में शरीर दान करने वाली 20 माह की धनिष्ठा, यूं बचाई 5 जिंदगियां

हम इंसान चाहिए कितने भी बड़े कुछ नहीं हो जाए पर ज़िन्दगी और मौत कभी भी हमारे हाथो में नहीं रहेगी पर अगर एक इंसान चाहिए तो किसी को नई ज़िन्दगी दे सकता है अपने अंगदान करके कई लोग ऐसा करते है और हाल ही में दिल्ली के रोहिणी इलाके की मात्र 20 माह की बच्ची धनिष्ठा सबसे कम उम्र की कैडेवर डोनर बन गई।

 

इस प्यारी सी परी के निधन के बाद सके अंगों को दान कर दिया गया जिसे जिंदगी और मौत के बीच जूझ रहे पांच मरीजों को एक नई ज़िन्दगी मिली है बता दे की दिल्ली के प्रसिद्ध अस्पताल सर गंगाराम में इस बच्ची के अंगों को निकालने के बाद पांच मरीजों में ट्रांसप्लांट किया गया।20 माह की धनिष्ठा पहली मंजिल से नीचे गिर गई थी 8 जनवरी की शाम नीचे गिर गई थी और बेहोशी के हाल में गंगाराम अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों सभी कोशिशों के बाद भी उसे बचाया नहीं जा सका और डॉक्टरों ने 11 जनवरी को उस मासूम को ब्रेन डेड बता दिया था।

वही बेटी की मौत से दुखी होने के बावजूद धनिष्ठा के माता पिता बबिता और आशीष कुमार ने अस्पताल के अधिकारियों से बच्ची के अंग दान करने की बात की धनिष्ठा के पिता कहते है की “हमने अस्पताल में कई ऐसे मरीज देखे जिन्हे अंगों की सख्त आवश्यकता है। अब जब हम अपनी धनिष्ठा को खो चुके हैं तो हमने सोचा कि अंग दान से उसके अंग न सिर्फ मरीजों में जिन्दा रहेंगे बल्कि उनकी जान बचाने में भी मददगार सिद्ध होंगे”

इस मामले में अस्पताल के चेयरमैन डॉ. डीएस राणा कहते जा की “परिवार का यह नेक कार्य वास्तव में प्रशंसनीय है और इसे दूसरों को प्रेरित करना चाहिए।” आपकी जानकारी के लिए बता दे की 0.26 प्रति मिलियन की दर से, भारत में अंगदान दर धीमी है। अंगों की कमी के चलते हर साल करीब 5 लाख लोग अपनी जान दे गवा देते है।

About wpadmin