Breaking News
Home / खबरे / शबनम को फांसी हुई तो जेल में जन्मे उसके इकलौते बच्चे का क्या होगा

शबनम को फांसी हुई तो जेल में जन्मे उसके इकलौते बच्चे का क्या होगा

उत्तर प्रदेश के अमारहो के गांव में अपने ही परिवार के 7 लोगो का हत्या में दोषी पाई गई शबनम को बहुत ही जल्द फांसी की सजा सुनाई जाने वाली है बता दे की शबनम ने साल 2008 में अपने प्रेमी सलीम के साथ परिवार के 7 लोगो के गले पर कुल्हाड़ी मर कर उनकी हत्या कर दी थी जब पुलिस ने उनसे पकड़ा तब वो प्रेग्नेंट थी और जेल में ही उसने अपने बेटे को जन्म दिया था और उसने अपने बेटे का नाम ताज रखा ।

हाल ही में शबनम को हत्या करने के जुर्म में फांसी की सजा सुनाई गई है और उसे ये सजा मथुरा के जेल में दी जाएगी वैसे शबनम को फांसी हो जाएगी, तो ऐसे में उसके इकलौते बच्चे का क्या होगा वैसे बेटे ताज ने अपनी मां शबनम की फांसी को रोकने के लिए भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से बड़े ही भावुक रूप से अनुरोध भी किया था कि उनकी मां को बक्श दिया जाए।

वैसे अगर देखा जाए तो शबनम भारत की पहली महिला होगी जिन्हे फांसी जैसी सजा सुनाई गई है पर सब के मन में एक ही सवाल है की शबनम को फांसी की सजा हो जाएगी तो उसके 12 साल के बच्चे का क्या होगा उसकी परवरिश, उसकी पढ़ाई-लिखाई कैसे पूरी होगी इसके साथ ही 12 साल के ताज को इस बात के साथ अपनी ज़िन्दगी कटनी पड़ेगी के अब वो अपनी माँ से फिर कभी नहीं मिल पाएगा।

जानकारी के लिए बता दे की ताज बचपन से कई साल तक अपनी मां के साथ जेल में रहा और शबनम के साथ-साथ उसके पति को भी मौत की सजा सुनाई गई बता दे की शबनम के साथ कॉलेज में पढ़ने वाले उसके दोस्त उस्मान सैफी ने ताज की परवरिश की जिम्मेदारी ले ली।शबनम उस्मान से सीनियर थी और वह शबनम को अपनी बड़ी बहन की तरह मानता था पर उसे इस बार पर बिलकुल विश्वास नहीं हुआ था की उसकी बड़ी बहन जैसी शबनम कुछ ऐसा कर सकती है पर अब वो उसकी बेटे की देख रेख कर रहा है साथ ही पुश्तैनी प्रॉपर्टी भविष्य में उसके बेटे ताज को मिल जाएगी एक बेटे को अपनी माँ से अलग करना आसान नहीं होता है पर कोर्ट भावना नहीं बल्कि इंसाफ को देखकर ही अपने फैसला लेता है।

About wpadmin