Breaking News
Home / मनोरंजन / वफादार कुत्ते के लिए मालिक ने सजाई अर्थी, अनोखे तरीके से निकली ‘ब्राउनी’ की अंतिम यात्रा

वफादार कुत्ते के लिए मालिक ने सजाई अर्थी, अनोखे तरीके से निकली ‘ब्राउनी’ की अंतिम यात्रा

इंसान का सबसे अच्छा दोस्त कुत्ते को माना गया है कई लोग अपने पालतू कुत्त को अपने परिवार की तरह मानते है क्योकि वो उन्हें वाफदर बनकर रह रहे होते है जहा कई लोग इन मासूम जानवरो के साथ बहुत ही बुरा बरताव करते है पर आपको एक ऐसे शख्स कहानी बताएंगे,जो सभी के लिए एक मिशाल कायम कर चुकी है।

ये घटना प्रनिया जिले की जहा पशु प्रेम की को तस्वीर सामने आती सबकी आंखें नम हो गई जब जानवर की मौत हुई जिसका घर वालो ने अंतिम संस्कार किया और अर्थी यात्रा निकली.समर शेल नेशनल पार्क कुवारा पंचायत के रामनगर में स्थित है।

पार्क के स्थापक हिमकर मिश्रा है 15 साल पहले इस पार्क की नीव रखी थी.इतने बड़े पार्क और फार्म की की रक्षा के कि अनेक कुत्तों को पाल रखा था। सभी कुत्तों में सबसे पहला और उनका सबसे चहेता कुत्ता था ब्राउनी.जानकारी के लिए बता दे की कुत्तों की उम्र 15 या 17 साल होती है और ब्राउनी अपनी ज़िन्दगी के आखिरी दौर पर था।

हीमकर मिश्रा ने अपने वफादार कूते की मौत पर काफी गमगीन हुए ओर उन्होंने उसका अंतिम संस्कार हिन्दू रीति रिवाजों के अनुसार करेगे मानो वो उनके परिवार क्क ही एक हिस्सा हो वही उनके कुत्ते की अंतिम यात्रा के बारे में सुनकर आस पास के लोग का हुजूम ये देखने के उम्र पड़ा और ब्राउनी के अंतिम संस्कार में कई लोग शामिल हुए थे।

शेल नेशनल पार्क के स्थापक हिमकार मिश्रा ने ब्राउनी के दफनाने कि जगह को स्मारक बनाने की बात कही है आपको ये भी बता दे की 15 दिन के अंदर ब्राउनी का स्मारक बन कर तैयार हो जाएगा और आने वाले लोगों को ब्राउनी की कहानियां सुनाई जाएगी।

About wpadmin