Breaking News
Home / खबरे / बुद्ध के बाल पर आखिर कैसे टिकी है ये सोने की चट्टान? वैज्ञानिक भी हैरान

बुद्ध के बाल पर आखिर कैसे टिकी है ये सोने की चट्टान? वैज्ञानिक भी हैरान

आज हम आपको ‘सोने की चट्टान’ के बारें में बताने जा रह है जिसके बारें में आज तक कोई नहीं जान पाए है की वो टिका किस पर है बड़े से बड़े वैज्ञानिकों को यह बात हैरान कर देती है बता दे की यह भारत की नहीं है बल्कि म्यांमार के मोन राज्य, की है म्यांमार में बहुत ही सुंदर बुद्ध मंदिर भी है वही गोल्डेन रॉक जो की परक्याइक्तियो शिवालय पर स्थिति है बता दे की यह की यह बादलों से घिरा है और बहुत ही खूबसूरत लगती है बता दे की यह कहानी पर्यटकों और तीर्थयात्रियों को रहस्य और पौराणिक कथाओं का आकर्षक स्वाद प्रदान करती है और इसकी ऊंचाई 25 फ़ीट है जिसको देखने के लिए लोग दूर दूर से आते है।


जब लोग गोल्डेन रॉक को देखते है तो लोगो को सुकून मिलता है मगर आश्चर्यकित कर देने वाली बात तो यह है की क्यों की 25 फीट ऊंचा ये चट्टान पूरी तरह से एक ढलान पर बनी हुई है इसका संतुलित कैसे बना हुआ है यह बात भी किसी को मालूम नहीं है बहुत ही रहस्यमयी तरीके से ये संतुलित है आपको बता दे की यह चट्टान किसी भी जगह से नहीं जोड़ी हुई है और इसका रहस्य आज तक कोई भी मालूम नहीं पर पाया है

आपको बता दे की यहाँ के लोगो के लिए तो यह भगवान बुद्ध का चमत्कार है उन लोगो का यह कहना है की परमात्मा की कृपा से ही ये चट्टान पहाड़ के धरातल से टिका हुआ है यह कभी भी लुढ़कता भी नहीं है लोगो का यह भी कहना है की यह बुद्ध की चमत्कारी शक्तियों की वजह से यह चट्टान टिकी हुई है म्यांमार के कही इंजीनियरों ने यह पता भी लगने की कोशिश की है मगर अभी तक इंजीनियरों को मालूम नहीं हुआ है कुछ भी ‘वंडर्स ऑफ बर्मा: श्राइन्स ऑफ गोल्ड’ के दौरान इसकी कहानी में बतया गया था की इस डॉक्यूमेंट्री में इसके पीछे किसी अद्भुत ‘शक्ति’ की बात कही गई है और कहा गया है कि, ये चट्टान जिस तरह से टिकी हुई है वो गुरुत्वाकर्षण के नियमों की अवहेलना करती है। डॉक्यूमेंट्री में इसे एक प्राकृतिक आश्चर्य कहा गया है, जिसे कहानियों द्वारा पवित्र बनाया गयाहै।” अब इसकी कहानी बता देते है

जिसकी शुरुआत होती है कहानी में ऐसा बतया जाता है की एक दिन राजा का सामना एक बौद्ध साधु से हुआ था,अपनी टोपी के अंदर बालोंका एक कतरा रखा था। साधु ने खुद का परिचय बुद्ध के तौर पर दिया था और उन्होंने अपने बालों कागुच्छा राजा को उपहार दिया था। बदले में साधु ने जोर देकर कहा कि, बालों को उसके सिर के आकार की चट्टान पर बने शिवालय मेंरखा दो। इतना ही नहीं ऐसा भी कहा जाता है की राजा के पास अलौकिक शक्तियां उनके पिता से उन्हें मिली थीं औरउनकी मां सापों की राजकुमारी थी और राजा ने भगवान बुद्ध के आशीर्वाद से इस चट्टान को लुढ़कतीपहाड़ी पर रख दिया था इसके अल्वा आज तक किसी को कुछ नहीं मालूम हुआ है

About wpadmin