रवि शास्त्री ने सौरव गांगुली और राहुल द्रविड़ को लेकर की ये बड़ी बात, कहा- दोनों भी कभी वर्ल्ड कप नहीं जीते

आपको बता दे की एक बार फिर भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कोच रवि शास्त्री ने एक बार फिर विराट कोहली के लिया बयान दिया है उन्होंने एक न्यूज़ चैनल से बात करते हुआ कहा ‘मुझे बताओ कि पिछले कई वर्षों में कितनी टीमें ऐसी रहीं जो इतने लंबे समय तक लगातार अच्छा प्रदर्शन कर पाईं।’ इतना ही नहीं उनसे जब यह सवाल किया गया था की विराट कोहली अभ तक अपनी कप्तानी में एक भी वर्ल्ड कप नहीं जीत पाए तो यह सुन कर उनको गुस्सा आ गया था उसके बाद में पूर्व कोच रवि शास्त्री ने इसका जवाब दिया और कहा ‘यह कोई सवाल नहीं है कि आप किसी को वर्ल्ड कप जीतने के आधार पर जज करें। दिन के अंत में, आपको इस बात पर आंका जाता है कि आप कैसे खेलते हैं, क्या आप ईमानदारी के साथ खेल खेलते हैं। क्या आप लंबे समय तक खेले। दिन के अंत में आप इस तरह खिलाड़ियों को जज करते हैं।’

उन्होंने आगे कहा , ‘वह ठीक है। वर्ल्ड कप बहुत बड़े-बड़े प्लेयर नहीं जीते। सौरव गांगुलीकभी जीता नहीं है वर्ल्ड कप। राहुल द्रविड़ नहीं जीते हैं। अनिल कुंबले नहीं जीते। वीवीएस लक्ष्मण भी नहीं जीते। रोहित शर्मा नहीं जीते। इसका मतलब यह थोड़े ही है कि वे सब खराब प्लेयर हैं। ‘एक खिलाड़ी के तौर पर आपका काम यह होना चाहिए कि आप मैदान पर जाएं और खेलें। वर्ल्ड कप जीतने वाले कप्तान कितने हैं। सिर्फ दो हैं। सचिन तेंदुलकरको भी जीतने से पहले 6 वर्ल्ड कप खेलने पड़े।’

उसके बाद में जब रवि शास्त्री जी से सौरव गांगुली और टीम इंडिया के खिलाड़ियों के बारें में सवाल क्या तो उन्होंने कहा ‘एक बात साफ है कि मैं PUBLIC (सार्वजनिक स्थल पर) में गंदी चादर नहीं धोता। मैं अपने किसी खिलाड़ी के बारे में सार्वजनिक रूप से चर्चा नहीं करना चाहता…।’ उन्होंने आगे बोला की ‘मुझे नहीं पता कि दोनों पक्षों (सौरव गांगुली और विराट कोहली) के बीच क्या संवाद हुआ। मैंने उनसे बात नहीं की है, जब मुझे उनसे बात करने का मौका मिलता है, तो मैं अपना दृष्टिकोण रखने के लिए बोल सकता हूं। जब आपके पास आधी जानकारी हो तो चुप रहना चाहिए। जब आपको पूरा ज्ञान हो, तब बोलना चाहिए।’

 

आपको बता दे की फिर रवि शास्त्री जी से यह सवाल किया गया था की क्या रोहित शर्मा अगले टेस्ट कप्तान के लिए सही है तो उसका जवाब देते हुआ उन्होंने कहा की ‘मैंने तीन महीने से क्रिकेट नहीं देखा है, जब मैं क्रिकेट देखता हूं तो मैं अपना फैसला दे सकता हूं। अगर मैंने नहीं देखा है तो मैं मेरा फैसला नहीं दूंगा।’ आपको बता दे की जब विराट कोहली ने टेस्ट कप्तानसी छोड़ना का नोट लिखा था तब उन्होंने उस नोट में रवि शास्त्री और एमएस धोनी को उनके निरंतर समर्थन के लिए धन्यवाद दिया था उसके बाद में रवि शास्त्री से जब सवाल किया गया था विराट खोली की टेस्ट कप्तानी के ऊपर तब उन्होंने जवाब दिया और कहा ‘हर चीज का एक समय होता है, आपको विराट की पसंद का सम्मान करना होगा। अतीत में कई खिलाड़ी अपनी बल्लेबाजी या क्रिकेट पर ध्यान केंद्रित करने के लिए कप्तानी छोड़ चुके हैं, चाहे वह सुनील गावस्कर हों या कोई भी। मुझे नहीं लगता कि कोहली में ज्यादा बदलाव होगा।’