Breaking News
Home / मनोरंजन / घर से बेटी की तरह विदा हुई हिरण लॉरेंस, लोगों की भर आईं आंखें

घर से बेटी की तरह विदा हुई हिरण लॉरेंस, लोगों की भर आईं आंखें

सायद आप में से कुछ लोगो को यह मालूम नहीं होगा की राजस्थान में हिरणा को इन्शानो से ही ज़्यदा प्यार किया जाता है और उनका ध्यान भी रखा जाता है तो आज हमारे पास में राजस्थान के हिरणा और इंसानों की एक कहानी सामने आई है जिसको सुन कर आपको भी मालूम हो जायेगा की सच में राजस्थान के लोग हिरणा से काफी ज़्यदा प्यार करते है राजस्थान में बिश्नोई समाज वन्यजीवों से बेपनाह मोहब्बत करता है।


राजस्थान में बिश्नोई हिरणों को अपने घर में ही रखते है और उनको अपने बच्चो की तरह प्यार करते है और पालते है और उनकी पूजा भी करते है बात दे की यह किस्सा राजस्थान के जैसलमेर जिले के पोकरण का है पोकरण के सनावड़ा गांव के पास एक मादा हिरण ने बच्चे को जन्म दिया और जन्म देने के 15 दिन बाद मादा हिरण का निधन हो गयाथा दरसल उस हिरण को कुत्तों ने शिकार कर लिया मगर उस वक़्त हिरण केबच्चा काफी ज़्यदा छोटा था जिसकी वजह से उसको अपनी माँ की जरूरत थी मगर जब इस घटना के बारें में शिव सुभाग बिश्नोई को जानकरी मिली थी तब उन्होंने तब वो उससे बच्चे को अपने घर पर लेकर आ गए थे ।

उसके बाद में पत्नी सोनिया ने हिरण के बच्चे को अपने बच्चे की तरह पालन पोषण कर गाय का दूध पिलाना शुरू किया था इतना ही नहीं उन्होंने उस बच्चे का नाम भी रखा था उन्होंने उसका नाम लॉरेंस रखा था जो की अब 9 महीने का हो गया है लॉरेंस को शिव सुभाग से बहुत ही ज़्यदा प्यार हो गया है उनके इर्द-गिर्द ही रहने लगा गया है जैसे ही कोई भी लॉरेंस का नाम लेता यही वो उसके पास में चल कर आ जाता है हिरण लॉरेंस शिव के घर से बाहर चला जाता है तो सबको यह दार रहता है की उसको कोई कुत्ता हमला नहीं कर दे जिसकी वजह से अब लॉरेंस को रेस्क्यू सेंटर भेज दिया गया है उसको बिलकुल एक बेटी की तरह विदा किया गया है ।

About wpadmin