Breaking News
Home / मनोरंजन / 700 सालों से शापित गांव, जहां दो मंजिला घर बनाना है मना, जानिए क्या है वजह

700 सालों से शापित गांव, जहां दो मंजिला घर बनाना है मना, जानिए क्या है वजह

आज हम आपसे राजस्थान के 700 सालों से शापित गांव की बात करने जा रहे है यह एक ऐसा गांव है जिसके बारें में आप खुद सुन कर हैरान हो जाएंगे मगर यह बात सच है इस गांव को एक श्राप लगा हुआ है यह 700 साल पुरनी बात है जिसकी वजह से आज भी गांव में कोई भी अपने घर की दूसरी मंजिल नहीं बहना सकता है ऐसा क्या हुआ जो इस गांव को श्राप लग गया आइए जानते है आपको बता दे की यह गांव जयपुर से 200 किलोमीटर की दुरी पर है चूरू जिले की सरदारशहर तहसील के उडसर गांव की बात है जहा पर लोग दूसरी मंजिल घर नहीं बहन सकते है यहाँ के लोगो का यह कहना है की हमारे गांव को एक श्राप लगा हुआ है की जो भी गांव में दूसरी मंज़िल घर बाँयेगा उसके ऊपर मुश्किल आ जाएगी वह के लोग इस बात को मानते आ रहे है की राजस्थान की धरती आस्थाओं और मान्यताओं की है।हर क्षेत्र की अपने लोक देवता में गहरी आस्था है। ऐसा ही उडसर गांव की यह काहनी है की जो भी दो मंज़िला घर भनवता है उसपर मुश्किल आ जाती है और उसकजे साथ कुछ गलत हो जाता है


मगर इस गांव को आखिर कोनसा श्राप लगा हुआ है जिसकी वजह से कोई भी अपना ऊपर वाला घर नहीं बनवा सकता है भोमिया नाम के एक व्यक्ति रहते थे, जिनकी गायों के प्रति गहरी आस्था थी। भोमिया जी का पास ही के गांव आसपालसर में ससुराल था। एक बार की बात है गांव में कुछ लुटेरे आए और वे गायों को चुराकर ले जाने लगे। इस पर भोमिया जी का उन लुटेरों से साथ भंयकर संघर्ष हुआ। युद्ध में गाय तो आजाद हो गई, लेकिन गोभक्त भोमिया जी बुरी तरह जख्मी हो गए थे।युद्ध में बुरी तरह से घायल भोमिया जी भागते भागते अपने ससुराल पहुंच गए और वहां जाकर दूसरी मंजिल पर छिप गए थे और उन्होंने ससुराल के लोगों के अपने बारे में बताने से मना कर दिया था।

ऐसे में भोमिया जी की तलाश में लुटेरे उनके ससुराल पहुंच गए और परिवार वालों से मारपीट करने लगे प्रताड़ित होकर उन लोगों ने भोमिया जी के बारे में बता दिया। और ऐसा भी बतया जाता है की लुटेरों ने भोमिया जी को कमरे से निकाला और उनका सिर उनके शरीर से अलग कर दिया। लेकिन भोमिया जी अपने सिर को हाथ में लिए हुए चोरों से लड़ते रहे और लड़ते-लड़ते अपने गांव की सीमा के पास आ गए। आखिर में भोमिया जी का धड़ उड़सर गांव में गिरा, जहां भौमिया जी का मंदिर बनवाया गया है।

उसके बाद भोमिया जी की पत्नी ने उस गांव को श्राप दे दिया था की अब कोई भी गांव में दूसरी मंज़िल घर नहीं भनवा सकता है उसके बाद से जिसमे भी दूसरी मंज़िल घर बनवाया वो किसी का किसी मुश्किल में आ गया था इसके वजह से गांव के लोग डरे हुए अब दूसरी मंज़िल घर नहीं बनवाते है

About wpadmin