क्रिकेट नहीं था मिताली राज का पहला ‘प्यार’,शादी नहीं करने के पीछे है एक खास वजह

मशहूर महिला क्रिकटर मिताली राज जिन्होंने भारतीय महिला क्रिकेट टीम के साथ में खेलकर कई रिकॉर्ड हासिल किया हैं मिताली क्रिकेट के साथ में अपने निजी ज़िन्दगी की वजह से भी अक्सर सुर्खियों में बनी हुई रहती है आज हम मिथली के पहला प्यार के बारें में बात करने जा रहे है मिताली ने खुद यह बात बताई थी की स्पोर्ट्स उनका पहला प्यार नहीं था वप अपने पिता जी की जिद की वजह से क्रिकटर बानी है।

मिताली राज ने बताया था की बचपन में उनको डांस करना बहुत ही ज़्यदा पसंद था वो डांसर बनना चाहती थीं मगर उनकी किस्मत में क्रिकटर बनाना लिखा हुआ था मिताली मि उम्र जब 10 साल थी जब ज्योति प्रसाद ने उनकी प्रतिभा पहचान ली थी साल 1992 में हैदराबाद स्थित सेंट जॉन स्कूल में कोचिंग कैंप लगा था। दस साल की मिताली राज ) भी वहीं थीं। क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद ज्योति प्रसाद पहली बार नेट्स में गेंदबाजी कर रहे थे।

आपको बता दे की मिताली राज उनकी गेंदों को बहुत ही अच्छी तरह से खेल रही थी ज्योति प्रसाद को उस वक़्त की लग गया था की यह लड़की बहुत कुछ करने वाली है जिसके बाद में उन्होंने मिताली राज को और ट्रेनिंग करने के लिए कहा मिताली राज के पिता दोराई राज भी यही चाहते थे मगर मिथली को डांस भी बहुत पसंद था पिता ने उन्हें क्रिकेट चुनने को कहा। बेटी का करियर बनाने के लिए मिताली राज की मां लीला राज ने अपनी नौकरी छोड़ दी और उनकी बेटी मिताली ने उनका नाम रोसन भी किया है ।

बता दे की मिताली राज अब तक अविवाहित है जिसकी भी एक बहुत ख़ास वजह भी है मिताली राज से पूछा गया था, क्या आपके दिमाग में शादी का विचार आया? तब मिताली ने हंसते हुए कहा था, ‘बहुत समय पहले, जब मैं बहुत छोटी थी… तब यह विचार मेरे दिमाग में आया था…।’ अपनी हंसी को किसी तरह दबाते हुए मिताली ने कहा था, ‘लेकिन अब जब मैं विवाहित लोगों को देखती हूं तब यह विचार मेरे दिमाग में नहीं आता है। मैं सिंगल रहकर बहुत खुश हूं।’