Breaking News
Home / खबरे / दोनो हाथ नहीं है लेकिन हौसला भरपूर है, पैरों से लिखकर 10वीं की परीक्षा देगा यह दिव्यांग स्टूडेंट

दोनो हाथ नहीं है लेकिन हौसला भरपूर है, पैरों से लिखकर 10वीं की परीक्षा देगा यह दिव्यांग स्टूडेंट

शरीर की विकलांगता होने के बाद भी कुछ लोग उस सोच के साथ अपनी ज़िन्दगी जीते है जो हम और आप कभी नहीं जी पाएंगे ऐसे लोगो में अपनी ज़िन्दगी में कुछ करना का हौसला होता है और कभी भी हर नहीं मानते है तो आज हम आपको एक ऐसे व्यक्ति की कहानी बताने जा रहे हैं जिसने अपनी सकारात्मकता को अपने सपनो के आगे नहीं दिया है।

ये कहानी है अंबिकापुर के रहने वाले महेश की, एक समय था जब उसने अपनी शारीरिक कमजोरी और अक्षमता को अपने जीवन में बाधा नहीं बनने दिया।महेश अम्बिका पुर के डिगमा पंचायत के निवासी हैं वैसे इस बार वो 10वीं की परीक्षा में बैठने वाले हैं।

जैसा की आप देख सकते है की महेश अपने दोनों हाथों से असक्षम हैं उसके एक हाथ पूरी तरह अविकसित है और इनका दूसरा हाथ है भी नही है पर इसके बाद भी उन्होंने ज़िन्दगी में हर नहीं मानी।10वीं में पढ़ने वाले इस विद्यार्थी ने इस बात को अच्छे से साबित कर दिया है की विकलांगता केवल हमारी नकारात्मक सोच में वास करती है।

महेश का सपना है की वो एक टीचर बनना चाहता है इसके साथ ही वो अपने सपने को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत भी कर रहे हैं।बता दे की । महेश और उनके जैसे अन्य लोग ,सभी के लिए एक प्रेरणा स्त्रोत हैं। इन लोगो से ये चीज सिखने को मिलती है की जवान में कुछ भी हो हमें हार नहीं मानी चाहिए चाहिए उसके लिए कितनी भी कठिन परिस्थिति का सामना करना पड़े।

About wpadmin