Breaking News
Home / बॉलीवुड / कोमा में चले गए थे अमजद खान, कोई मदद को नहीं आया, अमिताभ ने जान बचाने के लिए लिया था ये रिस्क

कोमा में चले गए थे अमजद खान, कोई मदद को नहीं आया, अमिताभ ने जान बचाने के लिए लिया था ये रिस्क

इंडस्ट्री के दो जाने माने एक्टर अमिताभ बच्चन और अमजद खान एक साथ कई फिल्मो में काम कर चुके है उनमे से ज्यादा फिल्मो में जहा अमित जी हीरो का रोल निभाते तो वही अमजद विलन के रोल में देखते थे दोनों ने साथ में ‘शोले’ , ‘गंगा की सौगंध’, ‘कालिया’, ‘सत्ते पे सत्ता’, ‘लावारिश’, ‘मुकद्दर का सिकंदर’, ‘याराना’, ‘नसीब’ और मिस्टर नटवरलाल जैसी फिल्में में काम किया था वही साल 2016 में अमिताभ ने अपने एक इंटरव्यू में अमजद खान से जुड़ा एक दिलचस्प किस्सा सुनाया था।

बिग बी ने बताया कि एक बार अमजद खान ‘द ग्रेट गैम्बलर’ फिल्म की शूट के लिए अपने परिवार के साथ मुंबई से गोवा जा रहे थे पर रास्ते में ही उनका एक्सीडेंट हो गया और तब उनकी मदद को कोई नहीं आया था, ऐसे में एक्टर ने खुद अपने परिवार उनकी पत्नी और दो बच्चों को पंजिम के एक हॉस्पिटल में एडमिट करवाया था और इस हादसे के बाद वह कोमा में चले गए थे।

उनके फेफड़े और रिब्स बुरी तरह से चोटिल हो गए थे उन्होंने बताया ‘मैं तब पहले ही गोवा पहुंच गया था पर जब अमजद के एक्सीडेंट की खबर मिली तो उनसे मिलने हॉस्पिटल पहुंच गया उस समय उनकी हालत बहुत गंभीर थी। वे बेहोश थे और उन्हें संस लेने में काफी मुश्किल हो गई थी और जल्द से जल्द सर्जरी करवानी बहुत ज्यादा जरूरी थी। तब डॉक्टर्स ने उन्हें मुंबई ले जाने की सलाह नहीं दी थी वैसे उनके परिवार को तब तक मुंबई भेज दिया गया था।

उनके ऑपरेशन के लिए एक मेडिकल पेपर्स पर साइन करना था और इस पेपर्स में कहा गया था कि ऑपरेशन के दौरान अगर कोई अप्रिय घटना होती है तो डॉक्टर्स इसके जिम्मेदार नहीं लेंगे और तब ऑपरेशन के लिए मेडिकल पेपर्स पर साइन करने के लिए कोई भी तैयार नहीं था जब कोई आगे नहीं आया तो अमित जी ने पेपर्स पर साइन कर दिए। हालांकि इसके पहले उन्होंने उनके परिवार की सहमति ले ली थी जिसके बाद उनका ऑपरेशन हुआ और उन्हें मुंबई भेजने के लिए चार्टर प्लेन की व्यवस्था कराई गई।

अमित जी कहते है “मैं और अमजद एक दूसरे के बहुत करीब आ गए थे। फिर किस्मत ने ऐसा खेल खेला कि फिल्म ‘कुली’ की शूटिंग के दौरान अमिताभ गंभीर रूप से घायल हो गए। ऐसे में अमजद खान ने भी उनकी मदद की। अमिताभ बताते हैं कि हमारे एक्सीडेंट की स्थिति में समानता को लेकर हम दोनों आपस में कई बार हंसी मजाक करते रहते थे।” 27 जुलाई, 1992 को अमिताभ को कॉल आया की अमजद अब इस दुनिया में नहीं रहे इसे सुनकर उन्हें पहले विश्वाश नहीं हुआ और तुरंत उनके घर गया उनके अनुसार आज भी यकीन नहीं होता कि वे हमारे बीच नहीं है।

About wpadmin