Breaking News
Home / खबरे / CDS जनरल विपिन रावत के वो 5 सपने, जो रह गए अधूरे

CDS जनरल विपिन रावत के वो 5 सपने, जो रह गए अधूरे

7  दिसंबर को तमिलनाडु में हुआ हेलीकाप्टर क्रश होने की वजह से हुआ बहुत ही दर्दनाक हादसा जसिमे 13 लोग समीत सीडीएस जनरल विपिन रावत का भी निधन वो तो यह दुनिया छोड़ कर चले गए मगर उनकी पीछे कुछ अधूरे सपने रह गए है विपिन रावत का उत्तराखंड से बहुत लगवा था हुमसा से ही क्यों की सीडीएस बिपिन हुमसा से ही अपनी माँ के साथ में वही रहते थे और उनकी पढाई देहरादून में कैंब्रियन हॉल स्कूल में हुई थी जब उनका रिटायरमेंट हुआ था तब उन्होंने सोच लिया था की बी वो वपस उत्तराखंड में रहेगा और वो इसलिए वो देहरादून में घर भनवा रहे थे सीडीएस बिपिन को उत्तराखंड स बहुत प्यार था सीडीएस बिपिन ने कही सपने भी देखा थे जो की अब अधूरे रह गए है

आपको बता दे की उन्होंने पैतृक गांव सैंण की 4 किमी तक की सड़क भनवाने का काम भी चलु करवा दिया था यमकेश्वर विधानसभा की विधायक ऋतु खंडूडी भूषण ने बताया कि सीडीएस के गांव के लिए बन रही सड़क का 3 किमी तक काम पूरा हो चुका है। अब एक किमी तक सड़क बचा हुआ है। और उन्होंने आगे हमको यह भी बतया था की गांव के लोग यह चाहते थे की जब सड़क का काम पूरा हो जाये तब सीडीएस को गांव भी बुलवाया जायेगा इस काम के लिए सीडीएस जनरल विपिन रावत वो हुमसा संजीदा रहते थे और इस काम को बड़ी संजीदगी से लेते थे

 

सीडीएस जनरल विपिन रावत यह भी चाहते थे की जब उनका रिटायर हो जाये उसके बाद वो अपने गांव देहरादून में रहे प्रेमनगर के पौंधा रोड पर मकान बनवा रहे थे। हमको यह भी मालूम हुआ है कीपत्नी मधुलिता रावत ने पूजन कर निर्माण कार्य शुरू करवाया था। जनरल पहाड़ प्रेमी थे, ऐसे में उन्होंने पहाड़ पर रहकर अपना जीवन बिताने का मन बना लिया था। विपिन रावत ने यह भी कहा था की जब वो रिटायर होने के बाद वह जरूर गांव आएंगे और गांव के लोगों के लिए काम करेंगे।

वे दोनों जब गांव आए थे तो उनके लिए उड़द दाल के पकौड़े व स्वाले बनाए गए थे। आपको बता दे की विपिन रावत का यह भी सपना था की उन्होंने अपने गांव में अच्छे इंजीनियरिंग व मेडिकल कॉलेज खोलने की मांग की थी और एक अच्छा हॉस्पिटल भी उनका यह मानना था की अगर यहाँ पर अच्छे सोल्लगे होंगे तो बच्चे पढाई करने बहर नहीं जायेगा मगर अफ़सोस उनके यह सभी सपने अधूरे रह गए

About wpadmin